Submit Articles | Member Login | Top Authors | Most Popular Articles | Submission Guidelines | Categories | RSS Feeds See As RSS
 
 
   
Forgot Password?    New User?
 
Welcome to ActuaFreeArticles.com!

Articles Product-Reviews Book-Reviews >> View Article


By: Ramnika Gupta
ऊपरवर्नित चार संस्थाओं के संयुक्त तत्वाधान में दिनांक १२.०३.२००० को भारतीय नृत्यकला मंदिर पटना में आयोजित समारोह में चार दलित साहित्यकार सम्मानित किए गए. यह बिहार राज्य के साहित्यकारों और बुद्धिजीवियों द्वारा की गई सुखद शुरुआत है. समारोह कि अध्यक्षता सुप्रसिद्ध प्रतिष्ठीत साहित्यकार मान्यवर माताप्रसाद जी पूर्व राज्यपाल अरुणाचल प्रदेश ने की. श्रीमती रमणिका गुप्त, अध्यक्ष रमणिका फाऊंडेशन हजारीबाग ने अतिथी साहित्यकारों का परिचय कराया. प्रो. डा० रमाशंकर आर्य, कुलपति वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय तथा संपादक आंबेडकर मिशन पत्रिका ने समारोह के स्वागत अध्यक्ष की हैसियत से अतिथियों का स्वागत किया. श्री आर० सी० कैथल आई० जी०, अध्यक्ष अनु० जाति/जनजाति कर्मचारी संघ ने समारोह के स्वागत सचिव की हैसियत से अतिथियों को बिहार राज्य में दलित साहित्य आन्दोलन से अवगत कराया. समारोह का संचालन बुद्ध शरण हंस, संस्थापक अध्यक्ष अम्बेडकर मिशन, चितकोहरा पटना ने की.


इस सम्मान समारोह में साहित्यकार प्रो० जिया लाल आर्य, मा० ग्रेस कुजुर, निदेशक आकाशवाणी, पटना, मा० ममता कालिया, कौशल्या वैशयन्मी, प्रह्लाद चंद्र दास, मा० फूलचंद गुप्त, मा० मनेजर पाण्डेय, प्रो० विनय कंठ, प्रो० रामधारी सिंह दिवाकर, प्रो० नागेश्वर लाल, बाबू लाल मधुकर मगही भाषा के सुविख्यात कवि, प्रेम कुमार मणि सुप्रसिद्ध साहित्यकार डा० आर० आर० कन्नोजिया, डा० महावीर प्रसाद, प्रांतीय अध्यक्ष भारतीय दलित साहित्य अकादमी, मा० अमीरचंद दास पूर्व न्यायमूर्ति उच्च न्यायलय पटना ने भाग लिया.

Phone No: 01146577704

Article Source: ActuaFreeArticles.com

See All Articles From Author





Rate this article: युद्धरत आम आदमी द

Article Rating: 4.8/10 (4 votes cast)


Current Comments

0 comments so far (post your own)

Leave your comment:

Name:

Email:

URL:

Security Code:

What is the capital of Finland?:

Comments:



NOTE: Please keep comments relevant. Any content deemed inappropriate or offensive may be edited and/or deleted. Line breaks will be converted automatically and URLs will be auto-linked. No HTML code is allowed, instead please use BBCode if you want to format your text.